top of page

बढ़ते भारत में बढ़ते मध्यम एवं लघु उद्योग

Updated: Feb 13, 2023

MSME यानि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग। इसकी शुरुआत छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए की गई। इनको रोजगार का निर्माता के रूप में देखा  जाता है। हमारे  सामाजिक और आर्थिक विकास में इसका महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है। 


ये मुख्य रूप से छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों  में ज्यादा कार्य करते हैं जहां बड़ी संख्या में अकुशल और अर्ध कुशल को  रोजगार प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कुछ समय पूर्व किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि भारत में लगभग 634 लाख  MSME हैं जिसने लगभग 12 करोड़ लोगो को रोज़गार उपलब्ध किया  है।


इन्हीं कारणों से इसे भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी भी कहा जाता है।इसके बढ़ते हुए क्षेत्र को देखते हुए सरकार ने इसके पंजीकरण को ऑनलाइन और सरल कर दिया है|


 MSME का महत्व


1. कारीगरों और श्रमिकों के उत्थान  के लिए काम करता है


२. बैंकों से आर्थिक सहायता प्रदान करता है


3. प्रौद्योगिक उन्नयनता (Tecnology upgradation), बुनियादी ढाँचे का विकास और आधुनिकीकरण का सपोर्ट करते हैं।


4. विशेष प्रशिक्षण केंद्र के द्वारा नये उद्योग को बढ़ावा देता है और कौशल को बढ़ाने मे योगदान देता है।


5. आधुनिक परिक्षण सुविधा और  गुणवत्ता प्रमाणपत्र प्रदान करता है।


 6. भारत की  जीडीपी में इसका २९% का योगदान है।


7. Make In India को प्रोत्साहन देना



उद्योग शुरू करने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें


1. शुरुआती दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए कार्य करें 


2. इस बात का ध्यान रखें कि आप जो उद्योग शुरू करना चाह रहे हैं आस-पास उसको ज्यादा लोग तो नहीं कर  रहे।


3. अपनी भावनाओं को अपने वित्तीय निर्णय से अलग  रखें। डर या  लालच में आकर नहीं बल्कि व्याहवारिकता को ध्यान में रखकर निर्णय लें।


4. अपने आय-व्यय का हिसाब रखें।


5. किसी का  भी आंख मूंदकर अनुसरण ना करें, जरूरी नहीं है कि जो उद्योग किसी और का फलित हो रहा हो वह आपका भी अच्छा चले।


6. हमेशा ग्राहकों के संपर्क में रहें ताकि आपको पता चलता रहे कि किस चीज की मांग ज्यादा है।


7. शुरुआत मे बहुत तेज़ी से आगे बढ़ने की कोशिश करने की अपेक्षा बाजार और ग्राहक को समझने मे समय दें।


ऐसे उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सरकार समय-समय पर नई योजनाओं को लागू करती है। कुछ बातों का ध्यान रख कर कोई भी व्यक्ति इन योजनाओं का फायदा उठा सकता है।MSME के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद कोई भी इन उद्योगों को शुरू कर सकता है। इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाने के  बहुत सारे लाभ  होते हैं। जैसे:




1. बैंकों से कम ब्याज दरों पर आसानी से लोन मिलना।


2. प्रत्यक्ष कर कानून के तहत छूट।


3. निर्माण या उत्पादन क्षेत्र के लिए आरक्षण नीतियां।


4.बिजली के बिल में रियायत।


5. उद्यम के अनुसार वेटेज


6. आपको वैधता के साथ आर्टीजन कार्ड उपलब्ध कराया जाता है।


7. आपके पास कोई बैकअप ना होने पर सरकार आप का सहयोग करती है।


8. आपको आपातकालीन क्रेडिट गारंटी की भी सुविधा  दी जाती है।


ऐसी और भी कितनी सुविधाएं हैं जो MSME मैं रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद आपको मिलती हैं।सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि भारत में लोग आत्म निर्भर भारत की ओर बढ़े। मेक इन इंडिया और मेड इन इंडिया को बढ़ावा दिया जा रहा है।   सरकार की कोशिश है कि हम अपने देश में बनाए  हुए उत्पादों का ही इस्तेमाल करें, और अपने देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में अपना योगदान दें।

Kommentare

Mit 0 von 5 Sternen bewertet.
Noch keine Ratings

Rating hinzufügen
bottom of page